ग्रेटर नोएडा अथॉरिटी मैनेजर यशपाल, ग्रेटर नोएडा अथॉरिटी स्वास्थ्य विभाग से उमेश चंद्रा द्वारा सर्वे करवाया




विजन लाइव/ग्रेटर नोएडा

गंदगी और कूडे के ढेर को हटवाने के लिए लगातार ग्रेटर नोएडा अथॉरिटी के अधिकारियों को शिकायत की गई है और इसी संदर्भ में ग्रेटर नोएडा अथॉरिटी मैनेजर यशपाल, ग्रेटर नोएडा अथॉरिटी स्वास्थ्य विभाग से उमेश चंद्रा द्वारा सर्वे करवाया गया। इस बैठक में सोसायटी निवासियो के साथ गांव के लोगों ने भी अपनी समस्याएं बताईं। नेफोमा महासचिव रश्मि पाण्डेय ने बताया कि छोटी मिलक गांव में कूड़े के निष्पादन की उचित व्यवस्था नहीं है सारा कूड़ा ग्रीन बेल्ट पर फैंका जाता है। गांंव में नलियां जाम हैं और जिससे गंदे पानी का जमाव हो गया है और जिससे संक्रामक बीमारियां फैल रही हैंं। कम्प्लेन करने पर अथॉरिटी से कूड़ा हटा तो दिया जाता है लेकिन वो कूड़ा दोबारा इकट्ठा कर दिया जाता है। नेफोमा लगातार दो सालो से अथॉरिटी से मांग कर रही  हैं कि ग्रीन बेल्ट के रख रखाव की आवश्यकता है। साथ ही साथ छोटी मिल्क के गांव में कूड़े को डालने के लिए उचित कूड़े दान की व्यवस्था भी की जाए और उसके निष्पादन की भी समुचित व्यवस्था की जानी चाहिए ताकि कूड़ा ख़ाली पड़ी ज़मीन पर ना फैंका जाए।  ग्रीन आर्च, हिमालय प्राइड के पीछे ख़ाली पड़ी ज़मीन की साफ़ सफ़ाई कराई जाए। साथ ही ख़ाली पड़ी ज़मीन पर सौंदर्यीकरण कर बच्चों का पार्क या ओपन जिम बनाया जाए जिससे  गांव एवं सोसायटी के निवासी को फ़ायदा हो सके। छोटी मिलक गांव निवासी श्याम सिंह ने बताया कि गांवों में कूड़े के निष्पादन की सही व्यवस्था नहीं है जिससे गांव वाले कूड़े को ग्रीन बेल्ट एरिया में डालने के लिए मजबूर है, अथॉरिटी द्वारा कभी भी कूड़े को उठाने के लिए गाड़ी भी नहीं आती है, और गांव के आस पास का इलाक़ा बीमारियों का घर बनता जा रहा है। शुक्रवार को सर्वे के दौरान सोसायटी निवासी गिरीश, अनिता,  स्मिता, अनामिका, दीपक तथा गांव से श्याम सिंह, प्रकाश चंद मास्टर, राम कुमार बैसला आदि मौजूद रहे।

>