ग्रेटर नोएडा औद्योगिक विकास प्राधिकरण के मुख्य कार्यपालक अधिकारी को पत्र लिख कर समस्यों का निस्तारण करते हुए विकास किए जाने की मांग




नवंबर-2019 से फरवरी 2010 के बीच में 96 लाख का टैंडर सोसायटी के विकास के लिए छोडा गया था मगर बाद में सब कुछ फाइलों तक सिमट कर रह गया 



विजन लाइव/ग्रेटर नोएडा

ग्रेटर नोएडा सेक्टर चाई-4 स्थित अफोर्डेबल फ्लैट चाई-फाई सोसायटी यानी आदर्श विहार सोसायटी में समस्यांए जी का जंजाल बनी हुई है। नाली की समस्या है, साफ सफाई की समस्या है यहां तक छतों से नीचे आते हुए पाइप भी पफूटे हुए हैं। जिनसे से पानी का रिसाव फ्लैटों की दीवारों में होता रहता है। सीवर की समस्या है चैंबर में कनकेक्शन सही तरीके नही है बल्कि कई जगह तो चैंबर के ढक्कन के उपर ही कनेक्शन जोड दिए है इससे सारा सीवर का पानी रिसाब होता है और बिल्डिंग की तह में पहुंचता है। नाली बनी हुई है मगर बहाव सही होने से सारा पानी नाली में ही सडता रहता है। इन नालियों का तल कच्चा है जिससे सारा पानी बिल्डिंग की जडों में रिस रहा है और इससे यह बहुमंजिला बिल्डिंग कभी धाराशायी हो सकती है। ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण द्वारा शुरू में ही सडकों की मरम्मत की कराई गई थी मगर प्राधिकरण भी पल्ला झाड रहा है सडकें टूटी पडी हुई है। ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण की ओर से दिलासा दी जाती है कि बजट में इस बार मेंटीनेंस के लिए जरूर कुछ किया जाएगा मगर फिर सब कुछ टांय टांय फिस्स हो जाता है।
इस बार फिर आदर्श विहार रेजिडेंट्स वेलफेयर सोसाइटी रजि0 ने ग्रेटर नोएडा औद्योगिक विकास प्राधिकरण के मुख्य कार्यपालक अधिकारी को पत्र लिख कर समस्यों का निस्तारण करते हुए विकास किए जाने की मांग की गई है। पत्र में आदर्श विहार रेजिडेंट्स वेलफेयर सोसाइटी रजि0 के अध्यक्ष सजींव चौधरी और महासचिव बृजेश शुक्ला ने मुख्य कार्यपालक अधिकारी को अवगत कराया है कि रोड, नाली और जगह जगह का बढ़ता हुआ कूड़ा कचरा बडी समस्या बन चुका है। इन सभी समस्याआेंं को लेकर कई बार ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण में अधिकारियों से मिल चुके हैं मगर वहां से हर बार यह कह कर बहका दिया जाता है कि अभी फाइल अप्रूव नहीं हुई है। वहीं लोगों का सोसाइटी में रहना बड़ा मुश्किल हो गया है, नालियों से बदबू रही है, सीवर जाम पड़े हैं और रोड़ों की स्थिति यह हो गई है कि लोगों का घूमना फिरना दुर्लभ हो चुका है यहां तक कि छोटे बच्चे कई बार तो गिर गए हैं। आदर्श विहार रेजिडेंट्स वेलफेयर सोसाइटी रजि0 ने पत्र मे मुख्य कार्यपालक अधिकारी को यह भी अवगत कराया है कि पिछले वर्ष नवंबर-2019 से फरवरी 2010 के बीच में 96 लाख का टैंडर सोसायटी के विकास के लिए छोडा गया था मगर बाद में सब कुछ फाइलों तक सिमट कर रह गया। अब फिर पुनः यह मांग करते हैं कि सोसायटी के विकास के लिए बजट आवांटित कराते हुए सारी बुनियादी सुविधाएं उपलब्ध कराई जावें।