विजन लाइव/ग्रेटर नोएडा
प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र दनकौर में मेडिकल रिपोर्टों में हो रहे फर्जीवाड़े और कोरोना जैसी महामारी में सेनेटाइजर की व्यवस्था होने भीषण गर्मी में पानी की व्यवस्था होने की शिकायतो को लेकर शनिवार  को करप्शन फ्री इंडिया संगठन के जिलाध्यक्ष मास्टर दिनेश नागर के नेतृत्व में सदर तहसील के तहसीलदार आलोक प्रताप सिंह को ज्ञापन सौपा। करप्शन फ्री इंडिया संगठन के संस्थापक चौ0 प्रवीण भारतीय ने बताया कि दनकौर स्थित स्वास्थ्य केंद्र पर बिलासपुर एवं अन्य थानों से संबंधित लोग मारपीट एवं झगड़ों के मामलों में मेडिकल कराने रिपोर्ट बनवाने आते हैं। जिस रिपोर्ट को प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र में तैनात एमबीबीएस डा0 ही बनाता है। लेकिन दनकौर के प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र पर देखने को यह मिल रहा है कि वहां पर संविदा कर्मचारी ही अधिकतर झगड़ों के मामलों में मेडिकल रिपोर्ट बनाकर देते हैं। जिसमें वह मुंह मांगे पैसे लेते है, कई बार तो किसी भी पक्ष की गलत मेडिकल रिपोर्ट तैयार करने पर विभिन्न धाराओं में मुकदमा दर्ज तक हो जाता है और वह व्यक्ति जिंदगी भर कोर्ट कचहरी के चक्कर काटता रहता है। प्रवीण भारतीय ने बताया कि इसी मुद्दे को लेकर आज करप्शन फ्री इंडिया संगठन के कार्यकर्ताओं ने तहसीलदार आलोक प्रताप सिंह को ज्ञापन सौपकर इस प्रकरण की निष्पक्ष जांचकर कठोर कार्यवाही की मांग की है।  करप्शन फ्री इंडिया संगठन के जिलाध्यक्ष मास्टर दिनेश नागर ने बताया कि दनकौर प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र पर समस्याएं को लेकर पहले भी कई ज्ञापान संगठन ने दिए हैं। लेकिन अभी तक कोई कार्यवाही नहीं हुई है। वैश्विक महामारी कोरोना वायरस के दौरान हॉस्पिटल में सैनिटाइजर तक मौजूद नहीं है। इस भीषण गर्मी में पीने के पानी की भी व्यवस्था नहीं है जिसको लेकर संगठन ने जल्द समस्याओ के हल की मांग की। इस दौरान रिंकू बैसला, लोकेश राठी, पवन भाटी, राकेश नागर,अरुण नागर, आशुतोष भाटी,हरेन्द्र कसाना आदि पदाधिकारी और कार्यकर्तागण मौजूद रहे।