1500 से अधिक विदेशी ग्राहक, बाइंग एजेंट्स, थोक खरीद्दार और रिटेलर्स ने शिरकत की और कुल 270 करोड़ रुपये की बिजनेस इनक्वायरीः पासी

विजन लाइव/ नई दिल्ली.
 वर्चुअल मोड पर आयोजित दूसरे आई0एच0जी0एफ0 टेक्सटाइल मेले का सफल समापन आज हो गया। ईपीसीएच के चेयरमैन रवि के0 पासी ने बताया कि इस आयोजन में  1500 से अधिक विदेशी ग्राहक, बाइंग एजेंट्स, थोक खरीद्दार और रिटेलर्स ने शिरकत की और कुल 270 करोड़ रुपये की बिजनेस इनक्वायरी भी की गई। उन्होंनें बताया कि एक के बाद एक वर्चुअल मोड पर आयोजित मेले वैश्विक महामारी का परिणाम हैं। जब वास्तविक मेले संभव नहीं हैं ऐसे में हस्तशिल्प निर्यात संवर्धन परिषद ने निर्यातकों को इस मोड का प्लेटफार्म देकर अपना व्यापार करने का एक व्यवहारिक विकल्प मुहैया कराया है।  ईपीसीएच के कार्यकारी निदेशक आर0 के0 वर्मा ने बताया कि होम फर्निशिंग, फ्लोर कवरिंग और टेक्सटाइल्स सेक्टर के जिन प्रतिभागियों ने इस आयोजन में हिस्सा लिया उनके मुताबिक इस वर्चुअल माध्यम ने उन्हें व्यापार में बने रहने का एक अवसर दिया है क्योंकि ऐसे ग्राहक जो इस समय किसी भी देश में यात्रा करने में असमर्थ हैं वो अपने घरों/कार्यालयों  में आराम से बैठकर इस वर्चुअल मेले का हिस्सा बन सके।  वर्चुअल मोड पर आयोजित आई0एच0जी0एफ0 टेक्सटाइल मेले का मुख्य आकर्षण वेबिनार्स, कलाकृतियों का प्रदर्शन और ट्रेंड्स पर थीम सेटिंग रहे। उन्होंने कहा कि देश से होने वाले कुल हस्तशिल्प निर्यात का 25 प्रतिशत होम फर्निशिंग, फ्लोर कवरिंग और टेक्सटाइल के आइटम होते हैं। पिछले वित्तीय वर्ष यानी 2019.20 में ये निर्यात करीब 6200 करोड़ रुपये का था। एक के बाद एक वर्चुअल मोड पर दो सफल मेलों के आयोजन ने परिषद के अन्य सदस्यों को प्रेरित किया होगा कि वो पूरे जोर.शोर से आई0एच0जी0एफ0 दिल्ली मेले का हिस्सा बनें। ये मेला भी इसी साल वर्चुअल मोड पर 13 से 18 जुलाई के बीच आयोजित किया जाएगा। उन्होंने कहा कि वर्चुअल मोड पर होने वाले इस मेले में पूरी दुनिया से वैश्विक ग्राहकों को शो में आमंत्रित करने के लिए ईमेल. टेलीकॉलिंग और दुनिया भर में भारतीय दूतावासों और मिशन को भी इसमें शामिल किया गया है। साथ ही आयोजन के आखिरी दिन वर्चुअल मेले में होम फर्निशिंग और फ्लोर कवरिंग्स श्रेणी के सर्वश्रेष्ठ स्टैंड सेटअप के लिए अजय शंकर मेमोरियल पुरस्कारों का भी वितरण किया गया।