विजन लाइव/ग्रेटर नोएडा
दनकौर में कोराना योद्धा का घर वापस लौटने पर स्वागत किया। दनकौर झाझर रोड निवासी ठाकुर भानुप्रताप सिंह उर्फ रिंकू पुत्र ठाकुर मनवीर सिंह भाटी की ड्यूटी कोविड-19 शारादा अस्पताल में लगी हुई थी। ठाकुर भानुप्रताप सिंह उर्फ रिंकू ग्रेटर नोएडा शारदा अस्पताल में 3 वर्ष से मेल नर्सिंग स्टाफ में कार्यरत है। ग्रेटर नोएडा में राजकीय आयुर्विज्ञान संस्थान यानी जिम्स के बाद शारदा अस्पताल को ही आसोलेशन वार्ड में तब्दील किया गया है, जहां कोराना संक्रमित लोगों की जांच और इलाज किया जा रहा है। कोरोना योद्धा ठाकुर भानुप्रताप सिंह उर्फ रिंकू ने बताया कि कोरोना महामारी से जंग जीतने के लिए उनकी ड्यूटी कोविड-19 में दिनांक 08-04-2020 को शुरू हुई थी और  दिनांक 22-04-2020 तक अस्पताल में कोरोना मरीजों के इलाज में तत्पर रहे। इसके बाद गौतमबुद्धनगर प्रशासन के निर्देशानुसार उन्हें 23 अप्रैल 2020 से लेकर 8 मई 2020 तक रेडीसन ब्लू होटल ग्रेटर नोएडा में क्वारांटाइन किया गया। क्वारांटाइन की अवधि पूर्ण होने के बाद कोराना योद्धा ठाकुर भानुप्रताप सिंह उर्फ रिंकू दनकौर स्थित अपने घर पर लौटे हैं। घर लौटने पर कोरोना योद्धा ठाकुर भानुप्रताप सिंह उर्फ रिंकू का परिवार के लोगों ने पुष्प वर्षा कर स्वागत किया। कोरोना योद्धा ठाकुर भानुप्रताप सिंह उर्फ रिंकू के पिता ठाकुर मनवीर सिंह भाटी ने ’’विजन लाइव’’ को बताया कि खुशी की बात है कि उनका बेटा कोविड-19 की ड्यूटी से एक तरह से मानव सेवा कर घर वापस लौटा है। इस कार्य में चाहे पुलिस हो या फिर सफाईकर्मी हो अथवा स्वास्थ्यकर्मी हों सभी को दिल से सैल्यूट किया जाना चाहिए। ये सभी कोराना योद्धा कोराना महामारी को परास्त किए जाने के कार्य में जी जान से जुटे हुए हैं। उन्होंने बताया कि बेटा ठाकुर भानुप्रताप सिंह उर्फ रिंकू कोविड-19 की ड्यूटी के बाद क्वारांटाइन की अवधि पूर्ण कर घर लौट आया है। उन्हें गर्व इस बात का भी है कि बेटा स्वास्थ्यकर्मी हैं और कोरोना महामारी में कोरोना योद्धा के रूप में मानव सेवा करने का मौका मिला। बेटा घर है और ऐहतियात के तौर पर सभी जरूरी सावधनियां बरती जा रही है।


>