विजन लाइव/ग्रेटर नोएडा

 आर्य प्रतिनिधिसभा गौतमबुद्धनगर के पूर्व जिला महामंत्री 0 शिव कुमार आर्य ने कहा है कि सभी दलों की सरकारों को शराब एवं शराब में मजदूरों को डूबा हुआ देखना अच्छा लगता है, तो देश से शराब बंदी की कल्पना करना व्यर्थ है। जो गरीब के परिवार लाइन में लगकर राशन तथा खाने के पैकेट ले रहे थे,वहीं गम मिटाने के नाम पर शराब के ठेकों पर खड़े देखकर भारतीय अर्थव्यवस्था को नंगा खड़ा देखा और इससे ऐसा लगता है कि सभी राजनीतिक दल शराब माफिया के दलाल हैं। कम.से.कम देशवासियों पर रहम कर देशी शराब के ठेकों को अविलम्ब बंद करना सुनिश्चित हो। इस संकट के समय यही देश हित में है।

>