>

डेंगू के बुखार की शुरूआत साधारण लक्ष्णों से होती है लेकिन समय रहते यह बीमारी जानलेवा साबित हो जाती है- डाॅ शालिनी श्रीवास्तव

विजन लाइव/ शारदा विश्वविद्यालय

डेंगू के बढ़ते मामलों को देखते हुए शारदा यूनिवर्सिटी के मेडिकल काॅलेज के सामुदायिक चिकित्सा विभाग द्वारा जागरूकता शिविर का आयोजन किया गया। इस शिविर का आयोजन शारदा यूनिवर्सिटी के एम बी बी एस छात्रों द्वारा गौतमबुद्धनगर के पंचायतन एंव आस पास के अन्य ग्रामीण क्षेत्रों में किया गया जिसके तहत लोगों को डेंगू बुखार एंव उसके रोकथाम दृष्टिकोण के बारे में जानकारी प्रदान की गई। इस शिविर में  200 से 220 लोगों ने हिस्सा लिया। यहीं नहीं शिविर के तहत सर्वे एंव जानकारी साझा करने के बाद कीटनाषक का छिडकाव भी किया गया। शारदा विवि के सामुदायिक चिकित्सा विभाग की विभागाध्यक्ष डाॅ शालिनी श्रीवास्तव ने संबोधित करते हुए कहा कि डेंगू की समस्या हर वर्ष हजारों लोगों को ग्रसित करती है। डेंगू के बुखार की शुरूआत साधारण लक्ष्णों से होती है लेकिन समय रहते यह बीमारी जानलेवा साबित हो जाती है और यही कारण है की इस बीमारी पर रोकथाम जरूरी है। 

>

डा श्रीवास्तव ने बताया की डेंगू फैलाने वाला मच्छर दिन में काटता है और कूलर की सफाई नियमित रूप से होनी चाहिए, पानी इक्कठा न होने दे, बच्चों को पार्क में जाने से रोके आदि।  शिविर में भाग लेने वाले ग्रामवासी महेष ने कहा कि हम सभी को अगर अपने परिवार को सुरिक्षत रखना है तो नज़रिए एंव व्यवहार में बदलाव लाना होगा। इस षिविर के दौरान हम सभी लोगों की इस विषय पर काफी वृद्धि हुई है और अब हम हर सप्ताह कूलर की सफाई, पानी का एकत्र न होने देना आदि बातों पर खास ध्यान देगें और कीटनाषक, मच्छरदानी आदि का भी प्रयोग करेगे।  शारदा स्कूल आॅफ मेडिकल साइंसेस एंड रिर्सच की डीन डा मनीषा जिंदल ने इस कार्यक्रम को बढ़ावा देते हुए सामुदायिक चिकित्सा विभाग की विभागध्यक्ष डा शालिनी श्रीवास्तव को बधाई दी तथा उम्मीद जाहिर किया कि इस तरह के कार्यक्रमों से लोग बहुत कुछ सीख सकेेगें और समस्या पर भी काबू पाया जा सकेगा। इस कार्यक्रम के दौरान षारदा अस्पताल के डाॅ हर्ष महाजन, डाॅ अमित सिंह, डाॅ नेहा त्यागी, डाॅ नीति पुरपार, डाॅ अंब्रेन चैहान ने भी अपने विचार रखे और लोगों को जागरूक किया।