बिलासपुर में भाजपा गद्दी छोडो पैदल मार्च में कांग्रेसी सडकों पर उतरते हुए नजर आए

 


नए तीनों कृषि कानूनों के खिलाफ पिछले आठ महीने से किसान आंदोलनरत हैं, मगर  भाजपा की गूंगी बहरी सरकार के कानों पर जूं नहीं रेंग रही हैंः डा0 महेंद्र नागर 

 विजन लाइव/दनकौर

गौतमबुद्धनगर के कांग्रेसियों ने भाजपा गद्दी छोडो पैदल मार्च अभियान के दूसरे दिन बिलासपुर में फिर पूरा दमखम दिखाया। भाजपा गद्दी छोडो पैदल मार्च में कांग्रेसी सडकों पर उतरते हुए नजर आए। कांग्रेस की  राष्ट्रीय महासचिव व उत्तर प्रदेश प्रभारी प्रियंका गांधी एवं कांग्रेस उत्तर प्रदेश अध्यक्ष  अजय कुमार उर्फ लल्लू के आव्हान पर गौतमबुद्धनगर जिला कांग्रेस कमेटी के तत्वावधान में दादरी के बाद दूसरे दिन कसबा बिलासपुर से खेरली हाफीजपुर तक कांग्रेसजनों ने अंग्रेजों भारत छोड़ो आंदोलन की तर्ज पर भाजपा के कुशासन में बढ़ती महंगाई, भ्रष्टाचार, बेरोजगारी, तीनों नए कृषि कानून तथा बढ़ते अपराध आदि के विरोध में, कांग्रेस के प्रदेश सचिव व गौतमबुद्धनगर कांग्रेस प्रभारी सुनील बिश्नोई की अध्यक्षता व गौतमबुद्धनगर कांग्रेस  जिलाअध्यक्ष मनोज चौधरी के संचालन में भारी तादाद में कांग्रेसजनों ने भाजपा गद्दी छोड़ो,  पैदल मार्च निकाला। पैदल मार्च में गौतमबुद्धनगर कांग्रेस प्रभारी सुनील बिश्नोई एवं जिलाध्यक्ष मनोज चौधरी के अलावा पूर्व जिलाध्यक्ष डा0 महेंद्र सिंह नागर, पूर्व जिलाध्यक्ष तफसीर आलम और रघुराज भाटी,डा0 शकील अहमद, अमित भाटी,रणवीर भाटी,पुनीत कुमार,रसूला, गौतम अवाना, पुरुषोत्तम नागर, अब्बास हैदर,वरुण चौधरी, दिनेश शर्मा समेत सैकड़ों कांग्रेसियों ने पैदल मार्च में भाग लिया। इस मौके पर गौतमबुद्धनगर कांग्रेस प्रभारी सुनील बिश्नोई ने कहा कि जब से केंद्र और प्रदेश में भाजपा की सरकार आई है, तब से महंगाई चरम पर पहुंच गई। डीजल, पेट्रोल, रसोई गैस आदि के दाम आसमान छू रहे हैं। आम जनता, किसान, मजदूर, गरीब सभी परेशान है। कांग्रेस जिलाध्यक्ष मनोज चौधरी ने कहा कि बेरोजगारी ने युवाओं को आत्महत्या और अपराध की दुनिया की ओर धकेलने को मजबूर कर दिया है। उन्होंने  कहा कि भाजपा सरकार ने बिना मांगे ही, तीन नए कृषि कानून लाकर किसानों और मजदूरों को पूंजीपतियों के यहां गिरवी रखने का काम किया है। पूर्व जिलाध्यक्ष डा0 महेंद्र नागर ने कहा कि चरम पर पहुंची महंगाई के चलते किसान, मजदूर, गरीब व आमजन का हर वर्ग अपना जीवन यापन करने में असमर्थ हो गया है। नए तीनों कृषि कानूनों के खिलाफ पिछले आठ महीने से आंदोलनरत हैं मगर  भाजपा की गूंगी बहरी सरकार के कानों पर जूं नहीं रेंग रही है। पूर्व जिलाध्यक्ष तफ़्सीर आलम ने कहा कि प्रदेश में भाजपा सरकार की गलत नीतियों के कारण गरीबों, किसान, युवा और मजदूरों की समस्याओं की सुनवाई नहीं हो रही है। ऐसे में भाजपा को सत्ता में बने रहने का कोई अधिकार नहीं है। ऐसे में भाजपा गद्दी छोड़ें, वरना देश व प्रदेश की जनता आगामी चुनाव में इसका जवाब देगी। इस पैदल मार्च में वीरेंद्र गुड्डू, पुरुषोत्तम नागर, गौतम अवाना, विक्रम नागर, दिनेश शर्मा, चंदरमल बाल्मीकि, ईश्वर भाटी, श्री कृष्ण, पुनीत मावी, राजेश्वर, सूरज जाटव, राजेश बसु, धर्मेंद्र जाटव, संदीप भाटी, राहुल प्रधान, दिनेश, आशिम, राहुल खान, कीर्ति भाटी, दिनेश भाटी, मुकेश गौतम, त्रिलोक सिंह, सोनू सैफी, प्रवीण, नंदू ठाकुर, धर्मेंद्र भाटी, अजय नागर, देवेंद्र, लक्ष्मीनारायण, राजकुमार, संदीप, जीतू आदि पदाधिकारी और कांग्रेस कार्यकर्ताग शामिल हुए।