डा0 श्यामा प्रसाद मुखर्जी के बलिदान के बाद ही यह नारा प्रकाश में आया कि जहां हुए बलिदान मुखर्जी, वह काश्मीर हमारा है,जो काश्मीर हमारा है वह सारा का सारा हैःनवीन शर्मा

विजन लाइव/ ऊंची दनकौर

ऊंची दनकौर स्थित प्राथमिक विद्यालय में डा0 श्यामा प्रसाद मुखर्जी की पुण्यतिथि पर हिन्दू युवा वाहिनी दनकौर मंडल के कार्यकर्ताओं ने माला पहनाकर और पुष्प अर्पित कर भावभीन श्रद्धांजलि अर्पित दी। हिन्दू युवा वाहिनी दनकौर मंडल अध्यक्ष नवीन शर्मा ने बताया कि डा0 >श्यामा प्रसाद मुखर्जी का जन्म 6जुलाई 1901 को और निधन 23जून 1953 को हुई थी। शिक्षाविद,चिंतक और भारतीय जनसंघ के संस्थापक डा0 श्यामा प्रसाद मुखर्जी के बलिदान के बाद ही यह नारा प्रकाश में आया कि जहां हुए बलिदान मुखर्जी वह काश्मीर हमारा है,जो काश्मीर हमारा है वह सारा का सारा है। उन्होंने कहा कि धार 370 के विरुद्ध आंदोलन छेड़ सर्वप्रथम अपनी शहादत देने वाले सच्चे देशभक्त डा0 श्यामा प्रसाद मुखर्जी की पुण्यतिथि पर उन्हें शत्.शत् नमन करते हुए कार्यकर्ताओं ने ऊंची दनकौर में याद किया। इस मौके पर मंडल प्रभारी शिवम गोयल,मंडल मंत्री महेश नाथ,मंडल सहसंयोजक देव कुमार,मंडल गौ रक्षा प्रमुख अभिषेक सैनी और मुकुल,दीपक चौधरी,सुरेश,श्याम,रोहित, राहुल आदि पदाधिकारी और कार्यकर्तागण मौजूद रहे।