हमारा कार्य, निजी तथा वित्तीय जीवन तीनों ही इन्टरनेट तथा इलैक्ट्रिक मीडिया से प्रभावितः आरिफ मोहम्मद खान

 











विजन लाइव/ग्रेटर नोएडा

ग्रेटर नोएडा स्थित जीएल बजाज संस्थान में दो दिवसीय ऑनलाईन कान्फ्रेन्स का शुभारम्भ हुआ। इस कान्फ्रेन्स का आयोजन एमसीए डिपार्टमेंट द्वारा किया गया। कान्फ्रेन्स का विषय साईबर सिक्योरिटी इन इमर्जिंग डिजिटल ऐरा है। कान्फ्रेन्स की कन्वीनर डा0. मधु गोढ़ विभागध्यक्षा-एमसीए ने बताया कि इस दो दिवसीय कान्फ्रेन्स में अमेरिका, आस्ट्रेलिया, रशिया, नाईजिरिया, नार्वे, पाकिस्तान, बांग्लादेश आदि कई देशों से शोध-पत्र प्राप्त हुए हैं। वहीं लगभग 400 राष्ट्रीय तथा अंतर्राष्ट्रीय वेज्ञानिकों तथा विषय विशेषज्ञों ने तकनीकी समिति सदस्यों, सलाहकार समिति, की-नोट स्पीकर्स तथा शोध पत्र प्रस्तुतकर्ताओं के रूप में भागीदारी कर रहे हैं। कान्फ्रेन्स के पहले दिन केरल के महामहिम राज्यपाल आरिफ मोहम्मद खान मुख्य अतिथि के रूप में दर्शकों से मुखातिब हुए। वहीं प्रो. विनय पाठक वाईस चांसलर ऑफ डा0. ए.पी.जे. अब्दुल कलाम टैक्निकल यूनिवर्सिटी,कार्यक्रम में गेस्ट ऑफ ऑनर के रूप में उपस्थित रहे। कार्यक्रम के की-नोट स्पीकर प्रो. राजकुमार बुईया, यूनिवर्सिटी ऑफ मेलबॉर्न तथा प्रो. बालाकृष्ण दशरथी, यूनिवर्सिटी ऑफ मेरीलैण्ड ने भी आज के कार्यक्रम में शिरकत की। कार्यक्रम की शुरुआत संस्थान के वाईस चेयरमेन पंकज अग्रवाल के स्वागत भाषण से हुई। उन्होंने सभी उपस्थित जन का अभिनंदन किया तथा साईबर सिक्योरिटी को डिजीटल वर्ल्ड का अभिन्न हिस्सा बताया। अपने स्वागत भाषण में उन्होंने महामहिम राज्यपाल आरिफ मोहम्मद खान का  धन्यवाद किया तथा पेंडेमिक की स्थिति सामान्य होने पर, उनसे जी.एल. बजाज परिसर संस्थान में आने का आग्रह भी किया। उन्होंने कहा कि महामहिम राज्यपाल  से मिलने वाला मार्गदर्शन तथा प्रेरणा छात्रों को निरन्तर रूप से जीवन में आगे बढ़ने की सीख देगी। दर्शकों को सम्बनोधित करते हुए महामहिम राज्यपाल  आरिफ मोहम्मद खान ने कहा कि आज हमारा कार्य, निजी तथा वित्तीय जीवन तीनों ही इन्टरनेट तथा इलैक्ट्रिक मीडिया से प्रभावित है। हालांकि इन्टरनेट ने हमारे जीवन को सरल बना दिया है किन्तु साथ-साथ इसने हमें साईबर अटैक, निजता का उल्लंघन तथा धोखाधड़ी आदि की संभावनाओं के भी काफी करीब ला दिया है। उन्होंने कहा कि साईबर सिक्योरिटी, सुरक्षित डिजीटल वर्ल्ड का एक अभिन्न अंग है। उन्होंने कहा कि हालांकि यह जरूरी है कि हम सभी तरह की तकनीकी सुविधाओं का इस्तेमाल करना जानते हों किन्तु उसके साथ यह भी उतना ही आवश्यक है कि हम इससे हो सकने वाले खतरे से भी वाकिफ हों। उन्होंने कहा कि हालांकि वह इस विषय के विशेषज्ञ नहीं है किन्तु एक आम आदमी की तरह वह उन सभी तरीकों को जानना चाहते हैं जो एक सुरक्षित डिजीटल दुनिया के लिए जरूरी है। उन्होंने यह भी कहा कि आज बच्चों में इन्टरनेट तथा इलैक्ट्रॉनिक मीडिया का इस्तेमाल बढ़ता जा रहा है। इसलिए यह आवश्यक है कि ना सिर्फ बढ़ों बल्कि बच्चों को भी इन्टरनेट से होने वाले खतरे तथा सुरक्षा के उपायों से अवगत कराया जाए। प्रो. विनय पाठक वाईस चांसलर ऐकेटीयू ने जी.एल. बजाज संस्थान को बधाई दी तथा यह खुशी जताई कि कोविड-19 के दौरान भी संस्थान में नॉलेज शेयरिंग के इस अवसर को संभव किया। उन्होंने कहा कि सभी संस्थानों के लिए यह जरूरी है कि वह विभिन्न विषयों पर कान्फ्रेन्स, वर्कशॉप आदि का आयोजन करते रहें ताकि छात्र इण्डस्ट्री में हो रही प्रगति से वाकिफ रहें।  उद्घाटन समारोह में संस्थान के निदेशक प्रो. राजीव अग्रवाल ने सभी उपस्थित जन का धन्यवाद किया। उन्होंने कहा कि इस कान्फ्रेन्स का उद्देश्य साईबर सिक्योरिटी से जुड़े सभी खोजकर्ताओं, साल्यूशन प्रोवाईडर्स तथा उपभोक्ताओं को एक साथ लाना है। उन्होंने कहा कि यह तकनीकी महासमागम सभी भागीदारों का समान रूप से ज्ञानवर्धन करेगा तथा भविष्य में आने वाली किसी भी डिजिटल आपदा से बचने के लिए संभावित हल का ज्ञान करवाएगा। उन्होंने यह भी बताया कि इस कान्फ्रेन्स के दौरान सी-डेक नोएडा के सौजन्य से जी.एल. बजाज संस्थान स्कूली छात्र-छात्राओं के लिए भी एक विशेष सत्र का आयोजन करेगा ताकि उनमें डिजिटल खतरों के प्रति जागरूकता आए तथा वह इन खतरों से बचने के लिए उपायों को भी जान पायें। उन्होंने आगे कहा कि इस सत्र से छात्र-छात्राएं ना सिर्फ साईबर सिक्यूरिटी से वाकिफ होंगे बल्कि यह उन्हें आगे चलकर साईबर सिक्योरिटी में अपना योगदान देने के लिए भी प्रेरित करेगा।