पांच वर्षो में छात्रों के अथक प्रयासों ंऔर जुनून का ही यह परिणाम है कि कॉलेज को यह बड़ी उपलब्धि प्राप्त हुईः डा0 विकास सिंह


विजन लाइव/ग्रेटर नोएडा

भारतसरकार के शिक्षा मंत्रालय द्वारा नई दिल्ली में ऑन लाइन समारोह में उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडु और केन्द्रीय शिक्षा मंत्री डा0 रमेश पोखरियाल ‘‘निशंक‘‘ ने अटल इन्नोवेंशन रैंकिंग-2020 (एआरआईआईए) के परिणामों की घोषणा की । जिसमें निजी और स्वःपोषित कॉलेजो की श्रेणी में आई0टी0एस0 इंजीनियरिंग कॉलेज को देशभर के शीर्ष 25 रैंकिग वाली श्रेणी में शामिल किया गया है। आई0टी0एस0 इंजीनियरिंग कॉलेज में आयोजित पत्रकार वार्ता में निदेशक डा0 विकास सिंह ने कहा कि यह सभी पूर्व छात्रो, वर्तमान छात्रो और सभी संकाय सदस्यों के लिए बड़े ही गर्व का क्षण है। उन्होंने कहा कि आई0टी0एस0 इंजीनियरिंग कॉलेज को एआरआईआईए 2020 में भारत भर के शीर्ष 25 उच्च निजी शिक्षा संस्थानों में स्थान दिया गया है। नवाचार के क्षेत्र में शिक्षण संस्थानों के विकास को दिशा प्रदान करने और उन्हें विश्व स्तर पर प्रतिस्पर्धी बनाने के लिए एआरआईआईए तथा शिक्षा मंत्रालय के प्रयासों की सरहना की। उन्होंने कहा कि इस तरह की प्रशस्ति आई0टी0एस0 जैसे संस्थानों को प्रोत्साहित करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है। आई0टी0एस0 ने अपने छात्रों के बीच नवाचार की संस्कृति को व्यवस्थित रूप से बढ़ावा देने के लिए संस्थान नवाचार परिषद की स्थापना की है जो कि एमएचआरडी के निदशा निर्देशों के अनुसार संचालित किया जा रहा है। जिसके अंतर्गत आई0टी0एस0 विभिन्न स्टार्टअप, नवाचार और पेटेंट कराने में सफल हुआ है। इसी के साथ आई0टी0एस0 ने उद्मियता विकास के लिए नवरचना फाउंडेशन फॉर एन्टरप्रेन्योशिप डवलपमेंट की स्थापना की है, जो उद्यमशीलता की उपलब्धियों को आगे बढ़ाने के लिए छात्रों और शिक्षकों को सशक्त बनाने के लिए संसाधनों की एक श्रंखला प्रदान करता है। वर्तमान में आई0टी0एस0 में भारत सरकार द्वारा समर्थित ऊष्मायन केंद्र, बिजनेस इन्क्यूवेशन सेंटर(बीआईसी), एमएसएमई द्वारा प्रायोजित और न्यूजन, आईईडीसी विज्ञान और प्रौद्योगिकी विभाग, भारत सरकार द्वारा समर्पितहै। आई0टी0एस0 ने स्टार्ट-अप इनवेस्टर के लिए पैडअपवेंचर, सिंगापुर से एमओयू साइन किया है और नवाचार सहयोग के लिए लिंगकोपिंग यूनीवर्सिटी, स्वीडन से भी एमओयू साइन कियाहै। आई0टी0एस0 इंजीनियरिंग कॉलेज छात्रों के नवाचार और स्टार्ट अप विकास के लिए साल में दो बार स्टार्टअप वीकेंड कार्यक्रम का आयोजन भी करता है। उन्होंने कहा कि आई0टी0एस0 इंजीनियरिंग कॉलेज के कुछ उल्लेखनीय नवाचारों में करेंसी सैनिटाइजिंग मशीन, ई-कार, स्मार्ट बाइक, ई-गनाकोलह, जूसर मशीन, हैल्थ मॉनिटरिंग सिस्टम, रिसेव्शेन रोबोट, कम लागत वाली सीवेज क्लीनिंग मशीन, स्मार्ट गार्डनिंगसिस्टम, स्मार्ट इनहेलर, स्मार्ट शॉपिंग ट्रॉली, सोलर पैनल क्लीनिंग मशीन, ट्रैफिक फ्री एम्बुलेंस शामिल हैं। उन्होंने कहा कि एआरआईआईए शिक्षा मंत्रालय, भारत सरकार के इन्नोवेशन सेल द्वारा वर्ष 2019 में शुरू की गई थी। जिसके तहत छात्रों और संकायों के बीच नवाचार (इन्नोवेंशन) स्टार्ट-अप और उद्यमिता विकास से संबंधित संकेतक के आधार पर रैंकिंग दी जाती है। इस वार यह रैंकिंग छह श्रेणी में दी गई, जिनमें राष्ट्रीय महत्व के केन्द्र पोषित संस्थान, राज्य पोषित विश्वविद्यालय, राज्य पोषित स्वायत्त संस्थान, डीम्डविश्वविद्यालय, निजी संस्थान और महिला उच्च शिक्षण संस्थान शामिल हैं। उन्होंने कहा कि आई0टी0एस0 इंजीनियरिंग कॉलेज ने 2015 में उद्यमिता विकास प्रकोष्ठ की स्थापना की थी और प्रारम्भ से ही ईडीसी संकाय टीम के सदस्यों और पिछले पांच वर्षो में हमारे छात्रों के अथक प्रयासों ंऔर जुनून का यह परिणाम है कि कॉलेज को यह बड़ी उपलब्धि प्राप्त हुई है। इस मौके पर निदेशक डा0 विकास सिंह ने ईडीसी टीम को उनके अथक प्रयास एवं उपलब्धि के लिए बधाई दी। इस मौके पर पत्रकार वार्ता में प्रो0 महीप सिंह, प्रो0 सौरभ सिंह और डा0 निधि पुरी फैकलटीज और मीडिया कोर्डिनेटर मनीष कुशवाहा भी उपस्थित रहे।