करप्शन फ्री इंडिया की मुहिम पर एनपीसीएल के महाप्रबंधक सुबोध त्यागी ने पत्र जारी किया

 


विजन लाइव/ग्रेटर नोएडा

  ग्रेटर नोएडा में प्राइवेट बिजली कंपनी एनपीसीएल से क्षेत्र के ग्रामीण एवं किसान मूल बिल में चोरी का बिल सम्मिलित करने को लेकर पिछले काफी समय से परेशान थे। इस शोषण के विरुद्ध करप्शन फ्री इंडिया ने 1 माह पूर्व ज्ञापन देकर समाधान की मांग की थी। इसके संबंध में सोमवार को करप्शन फ्री इंडिया की बैठक कंपनी के जीएम सुबोध त्यागी के साथ हुई। जिसमें कंपनी मूल बिल में बिजली चोरी के बिलो के जोड़ने की समस्याओं के समाधान को तैयार हो गई है। करप्शन फ्री इंडिया संस्थापक चौधरी प्रवीण भारतीय बताया कि मूल बिल में चोरी के बिल सम्मिलित करने पर क्षेत्र के लोग परेशान थे। आए दिन किसान बिजली कंपनियों के कर्मचारी एवं अधिकारियों के शोषण का शिकार हो रहे थे। बिजली कंपनी चोरी की घटना को मूल बिल में सम्मिलित करने के बाद ग्रामीण एवं किसानों को कोई भी राहत नहीं दे रही थी। जिससे लोगो को काफी परेशानी का सामना करना पड़ रहा था। आज एनपीसीएल के महाप्रबंधक सुबोध त्यागी ने पत्र जारी किया है, जिसमे कहा गया है कि विद्युत चोरी के मामलों में कोई भी कार्य करने से पूर्व प्रत्येक उपभोक्ता को कारण बताओ नोटिस भेजकर पर्याप्त सुनवाई का अवसर दिया जाएगा। उन्होंने कहा कि पत्र देने के बाद बिजली कंपनी की तरफ से आदेश पारित किया है कि विद्युत चोरी के मामलों के निस्तारण हेतु एनपीसीएल कार्यालय में जाकर उपभोक्ता अपनी समस्या का समाधान करा सकता है। एनपीसीएल बिजली कंपनी के महाप्रबंधक सुबोध त्यागी ने कहा कि जिस तरह विद्युत चोरी के मामलों में ग्रामीण क्षेत्र के लोगों को पूर्व में राहत दी जाती थी आगामी समय में भी इस इसी तरह विद्युत चोरी के मामलों का निस्तारण किया जाएगा। इस दौरान चौधरी प्रवीण भारतीय,संजय भैया,मा. दिनेश नागर, प्रेम प्रधान,  कुलवीर भाटी, राकेश नागर, हरेंद्र कसाना आदि पदाधिकारी और कार्यकर्तागण मौजूद रहे।