आईएसआईएस के आतंकी के पकड़े जाने के बाद उसके खुरासान मॉड्यूलश् से जुड़े होने का भी पता चला






विजन लाइव/ गौतमबुद्धनगर
दिल्ली में आईएसआईएस के आतंकी के पकड़े जाने के बाद गौतमबुद्धनगर में भी विशेष चौकसी बरती जा रही है। गौतमबुद्धनगर पुलिस कमिश्नरी में जगह जगह चैकिंग की जा रही है। खास कर ग्रेटर नोएडा मुख्य केंद्र परी चौक समेत विभिन्न स्थानों पर पुलिस की टीमें वाहनों को रोक कर चैकिंग में लगी हुई है। इस आईएसआईएस के आतंकी के पकड़े जाने के बाद उसके खुरासान मॉड्यूलश् से जुड़े होने का भी पता चला है। दिल्ली स्पेशल सेल की शुरुआती जांच में पता चला है कि आतंकी को इस्लामिक स्टेट के कमांडर्स अफगानिस्तान से कंट्रोल कर रहे थे। पुलिस सूत्रों की माने तो गिरफ्तार आईएसआईएस ऑपरेटिव को इस्लामिक स्टेट द्वारा खुरासान प्रांत के कमांडरों द्वारा अफगानिस्तान से ऑपरेट किया जा रहा था और वह भारत में आतंकी वारदातों की योजना बना रहा था। वह कश्मीर के आतंकी संगठनों के संपर्क में भी था। इसके साथ ही वह आईएसआईएस ऑपरेटिव इस्लामिक स्टेट के खुरासान प्रांत यानी आईएसकेपी के संचालकों के साथ साइबरस्पेस के जरिए भी संपर्क में था। खुरासान शब्द एक प्राचीन इलाके के नाम पर आधारित है, जिसमें कभी उज्बेकिस्तान, अफगानिस्तान, तुर्कमेनिस्तान और ईराक का हिस्सा शामिल हुआ करता था। वर्तमान में यह अफगानिस्तान सीरिया के बीच का हिस्सा है। यहां आईएसआईएस के अलावा अन्य आतंकी संगठनों की विचारधारा से जुड़े संदिग्ध युवकों की तादात भी पिछले कुछ वर्षों में तेजी से बढ़ी है और ये एशियाई मुल्कों में अपना नेटवर्क स्थापित करने की कवायद में जुटे हैं। पहले भी खुफिया एजेंसियों ने सुरक्षा एजेंसियों को इनपुट मुहैया कराया था कि दिल्ली खुरासान मॉड्यूलश् के सदस्यों के निशाने पर है। आईएसआईएस के खुरासान मॉड्यूल को खोरासान ग्रुप नाम से भी जाना जाता है। इस ग्रुप में अलग विचारधारा रखने वाले आतंकी संगठन अलकायदा से जुड़े लोग भी शामिल हैं। इस ग्रुप को मुख्य तौर पर सीरिया खुरासान से चलाया जाता है। हालांकि खुफिया इकाइयों की मानें तो इस ग्रुप के पास अभी बहुत कम लड़ाके हैं। केरल से जो 21 लड़के गायब हुए थे, उनके बारे में भी यह कहा जाता है कि उन्होंने आईएसआईएस के खुरासान मॉड्यूल को ही ज्वाइन किया है। आईएसआईएस खुरासान का यह मॉड्यूल 2012 में बनाया गया था।