राफेल पर पीठ थपथपाने के बजाय इसका पूरा श्रेय खून पसीने की कमाई से टैक्स देने वाली देश की जनता को देः चौधरी हसरूद्दीन


विजन लाइव/गौतमबुद्धनगर
उत्त प्रदेश पूर्व सचिव मजदूर सभा समाजवादी पार्टी चौधरी हसरूद्दीन ने एक बयान में कहा कि फ्रांस से खरीदे गए 5 राफेल भारत की सरजमीं पर लैंड कर गई हैं, यह अच्छी बात है कि देश की सैन्य शक्ति मजबूत हो रही है। मगर जिस तरह से सत्तारूढ भाजपा सरकार इस मुद्दे पर सुर्खियां बटोर रही है, कतई ठीक नही है। उन्होंने कहा कि राफेल खरीद सौदे के मुद्दे पर भाजपा पहले ही सवालों के बीच घिर चुकी है। फ्रांस से 36 राफेल लड़ाकू विमानों के दाम और दैसॉ रिलायंस एविएशन को ऑफसेट कॉन्ट्रैक्ट मिलने के मुद्दे पर मोदी सरकार और कांग्रेस के बीच तकरार चली थी। तब विपक्ष ने इस सौदे की वित्तीय शर्तों पर सवाल उठाए थे। उसने क्रोनी कैपिटलिज्म यानी सांठगांठ वाले पूंजीवादी खेल का भी आरोप लगाया। उन्होंने कहा कि राफेल के आने पर सरकार ऐसी उपलब्धि बटोरना चाह रही है जैसे पहली बार रक्षा सौदे हुए हैं और देश में पहली बार इस तरह से सैन्यक्षमता बढी है। इससे पहले भी समय समय पर सरकारों ने विदेशों से सैन्य साजो सामान मंगवाया है। पहले तो शायद इस तरह से मीडियां की सुर्खियां नही बनीं। राफेल के आने से निश्चित ही देश की सैन्य शक्ति में इजाफा हुआ मगर यह सब पैसा तो जनता का ही है। सरकार अपनी पीठ थपथपाने के बजाय इसका पूरा श्रेय खून पसीने की कमाई से टैक्स देने वाली देश की जनता को दें। इस देश का प्रत्येक व्यक्ति प्रत्यक्ष और अप्रत्यक्ष रूप से सरकार को टैक्स देता है। जनता के टैक्स से खजाना भरा और जिससे ये राफेल खरीदे गए।

>